प्राकृतिक आपदा से हुई क्षति पर प्रभावितो को अहेतुक सहायता

0
172
Advertisment

03 मई, 2016(सू0वि0) जिलाधिकारी सविन बंसल ने बताया कि प्राकृतिक आपदा से हुई क्षति पर प्रभावितो को अहेतुक सहायता, गृह अनुदान एवं अनुग्रह अनुदान इत्यादि मदो के अन्तर्गत तत्काल राहत सहायता उपलब्ध कराये जाने हेतु जनपद अल्मोड़ा 01 करोड़ का अनुदान प्राप्त हुआ है। उन्होंने बताया कि इस धनराशि को सभी तहसीलो में आवंटित कर दिया गया है। जिलाधिकारी ने बताया कि जनपद अल्मोड़ा के तहसील अल्मोड़ा हेतु 20 लाख रू0, रानीखेत के लिए 10 लाख रू0, सल्ट के लिए 10 लाख रू0, भनोली के लिए 10 लाख रू0, जैंती के लिए 10 लाख रू0, सोमेश्वर के लिए 10 लाख, भिकियासैंण के लिए 05 लाख रू0, द्वाराहाट के लिए 05 लाख रू0, चैखुटिया के लिए 05 लाख रू0, स्याल्दे के लिए 05 लाख रू0, लमगड़ा के लिए 05 लाख रू0, मझौड़ के लिए 05 लाख रू0 का आवंटन कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि यह धनराशि स्वीकृत मदो में ही नियमानुसार व्यय की जायेगी एवं अवशेष धनराशि वित्तीय वर्ष के अन्त में शासन को समर्पित कर दी जायेगी। धनराशि जिस प्रयोजन हेतु स्वीकृत की गयी है उसी में व्यय की जाय गलत उपयोग होने पर सम्बन्धित उपजिलाधिकारी व तहसीलदार का पूर्णरूप से उत्तरदायित्व होगा। स्वीकृत धनराशि का वितरण तत्परतापूर्वक कराया जायेगा जिससे प्रभावितो को शीघ्र राहत राशि का वितरण सुनिश्चित हो सके। अल्मोड़ा, 03 मई, 2016(सू0वि0) जिलाधिकारी सविन बंसल ने बताया कि वनाग्नि को रोकने के लिए वन विभाग के अधिकारियों को कड़े निर्देश दिये गये है। उन्होंने कहा कि इस कार्य में लापरवाही को गम्भीरता से लिया जायेगा। प्रदेश के मा0 मुख्य सचिव द्वारा दिये गये निर्देशों के अनुपालन में वन विभाग को सभी व्यवस्थायें दुरूस्त की जानी है और प्रतिदिन की रिर्पोट शासन को भेजनी है। जिलाधिकारी ने बताया कि अभी तक जनपद मंे 95 स्थानो पर आगजनी की घटनाओं की सूचनायें प्राप्त हुई है जिससे जनपद में 232.8 हैक्टेयर वनभूमि प्रभावित है। इस काम में 224 वनकर्मी, 15 राजस्व कर्मी, 08 पुलिस, 38 एन0डी0आर0एफ0, 20 एस0डी0आर0एफ0, 100 होमगार्ड एवं 84 स्थानीय लोग लगे है इसके अलावा इस कार्य से निपटने के लिए 26 वाहन, एक टैंकर एवं 02 फायर बिग्रेड की गाड़िया लगायी गयी है। जिलाधिकारी ने कहा कि वन में आग लगाते हुए यदि कोई व्यक्ति पकड़ा गया तो उसके विरूद्व कठोर कार्यवाही अमल में लायी जायेगी साथ ही वन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये गये है कि वे आग को बुझाने के लिए जो व्यवस्थायें की जानी हो उसे समय से कर लें और शीघ्र ही शासन से धनराशि आवंटित की जा रही है तब तक अपने स्तर से व्यवस्थायें कर वनाग्नि को रोकने में सहयोग करें। अल्मोड़ा, 03 मई, 2016(सू0वि0) निजी सचिव मा0 उपाध्यक्ष राज्य सफाई कर्मचारी आयोग उत्तराखण्ड देहरादून ने बताया कि मा0 उपाध्यक्ष सफाई कर्मचारी आयोग ए0के0 सिकन्दर दिनाॅंक 04 मई को इस जनपद के भ्रमण पर आ रहे है। भ्रमण के दौरान वे समाज कल्याण, बहुउददेशीय वित्त विकास निगम, खण्ड शिक्षाधिकारी, लोक निर्माण विभाग, जल संस्थान, वन, पूर्ति, चिकित्सा अधिकारियों के साथ बैठक कर अन्य जनप्रतिनिधियों से भी भेंट करेंगे और 2ः00 अपरान्ह् नगरपलिका में एक बैठक भी करेंगे। अल्मोड़ा, 03 मई, 2016(सू0वि0) जिला प्रबन्धन उत्तराखण्ड बहुवित्त एवं विकास निगम राजीव नयन तिवारी ने बताया कि महाप्रबन्धक उत्तराखण्ड बहुवित्त विकास निगम के निर्देशानुसार राष्ट्रीय अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम टर्मलोन योजना अन्तर्गत जनपद हेतु लक्ष्य निर्धारित किये गये है। उन्होंने बताया कि लघु व्यवसाय जिसकी परियोजना लागत 01 लाख रू0 है उसके लिए लक्ष्य 04 रखा गया है। लघु व्यवसाय जिसकी परियोजना लागत 02 लाख है उसके लिए लक्ष्य 02 रखा गया है। वाहन, जीप, टैक्सी जिसकी लागत 6.38 लाख है उसके लिए लक्ष्य 02 रखा गया है। लघु वित्त ऋण जिसकी परियोजना लागत 0.50 लाख रू0 है उसकी लिए लक्ष्य 02 रखा गया है तथा महिला समृद्वि योजना जिसकी लागत 0.50 लाख है उसके लिए भी लक्ष्य 02 रखा गया है। इन योजनाओं का लाभ लेने हेतु लाभार्थी अनुसूचित जाति का होना होगा। ग्रामीण क्षेत्र में वार्षिक आय 81000 रू0 तथा शहरी क्षेत्र में 01 लाख 03 हजार रू0 से कम हो साथ ही लाभार्थी को जनपद का स्थायी निवासी होना अनिवार्य होगा। वाहन योजनाओं हेतु लाभार्थी के पास वैध कामर्शिलय ड्राईविंग लाइसेंस हो तथा लाभार्थी को किसी बैंक या किसी अन्य विभाग में डिफाल्टर नहीं होना होगा। चयनित लाभार्थी को ऋण वितरण से पूर्व स्वयं की अथवा जमानतदार की भूमि बंधक रखनी आवश्यक होगी। उन्होंने समस्त सहायक समाज कल्याण अधिकारियों को इन योजनाओं को व्यापक प्रचारप्रसार करने के निर्देश देते हुए कहा कि पात्र व्यक्तियों के आवेदन पत्र 07 मई तक अधोहस्ताक्षरी कार्यालय में भिजवाना सुनिश्चित करेंगे।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY