लिंगानुपात सुधारने के लिए जन सहयोग जरूरीः सीएमओ

0
116
Advertisment
लिंगानुपात सुधारने के लिए जन सहयोग जरूरीः सीएमओ चम्पावत 20 जनवरी 2016 जनपद के लिंगानुपात में सुधार लाने हेतु पीसी पीएनडीटी अधिनियम लिंग चयन प्रतिषेध अधिनियम के अन्तर्गत मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाविनोद सिंह टोलिया की अध्यक्षता में जिला समुचित प्राधिकारी समिति की बैठक का आयोजन स्वास्थ्य कार्यालय सभागार में किया गया। कन्या भू्रण हत्या रोकने तथा बालिकाओं के हितों की रक्षा करने हेतु जनपद के सभी क्षेत्रों में समिति द्वारा व्यापक जन जागरूकता कार्यक्रम आयोजित करने पर विचार विर्मश किया गया। मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने अवगत कराया कि जिले में लिंगानुपात 1000 पुरूषों पर 980 महिलाएं हैं जिसमें लगातार सुधार हो रहा है। उन्होंने जिले में स्थापित अल्ट्रासाउण्ड केन्द्रों की लगातार निगरानी करने स्थानीय चैनलों प्रिंट मीडिया आंगनबाडी आशा वर्करों एएनएम महिला मंगल दलों के माध्यम से व्यापक जनजागरूकता अभियान चलाकर भ्रूण परीक्षण एवं कन्या भ्रूण हत्या को रोकने की बात कही। उन्होंने कहा कि इंटर स्टेट टास्कर्फोस के माध्यम से अल्ट्रासांउड केन्द्रों पर भ्रूण परीक्षण की घटनाओं पर पैनी नजर रखी जा रही है। उन्होंने कहा कि महिला जागरूकता लिंगानुपात बढाने मंें कारगर साबित होगा जिसके लिए महिला संगठनों महिला मंगल दलों को अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाने हेतु जागरूक किया जाना आवश्यक है। उन्होंने लिंगानुपात बढाने हेतु पीसीपीएनडीटी एक्ट मजबूत करने फ्रंट लाइन वर्कस व अधिकारियों को इसमें अहम रोल अदा करने हेतु और अधिक प्रयास करने की बात कही। उन्होंने कहा कि आंगनबाडी आशा एवं एएनएम के माध्यम से सभी गर्भवती महिलाओं का पंजीकरण किया जाना आवश्यक है जिससे लिंगानुपात से जुडे सही आंकडे प्राप्त हो सके। बैठक में उपस्थित सदस्यों ने सभी प्रकार के धार्मिक सामाजिक महिला संगठनों गैर सरकारी संगठनों शैक्षणिक व्यावसायिक संगठनों आदि से आपसी तालमेल कर बालिकाओं के हितों व बेटी बचाओं अभियान में कार्य कराने पर अपने विचार रखे व सहमति जताई। एसीएमओ डारश्मि पंत ने कहा कि बेटी बचाओबेटी पढ़ाओं शपथ ग्रहण समारोह को जनपद के सभी स्थानों पर जिला कार्यक्रम कार्यालय के माध्यम से आयोजित किया जा रहा है। बैठक में समिति द्वारा लिंग परीक्षण की शिकायत पर कठोरता से कार्यवाही करने का फैसला किया गया। सभी सोनोग्राफी व डायग्नोस्टिक केन्द्रों पर भ्रूण परीक्षण करने पर लगातार निगरानी रखने का निर्णय भी समिति द्वारा लिया गया। बालिका एवं महिला दिवसों पर जनजागरूकता शिविरों का आयोजन करने शिक्षण संस्थाओं में व्यापक जनजागरूकता अभियान चलाने हेतु आवश्यक कार्यवाही पर चर्चा की गयी। जिला समुचित प्राधिकारी समिति की बैठक में एसीएमओ डा रश्मि पंत महिला सामाख्या कार्यकर्ता जशोदा बिष्ट जिला सूचना अधिकारी एनएस बिष्ट जिला समन्वयक जीवन चन्द्र बगौली आदि सदस्य उपस्थित थे।

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY