जिला पूर्ति अधिकारी को विशेष प्रतिकूल प्रविष्टि

0
395
Smiley face

जिलाधिकारी सविन बंसल ने बताया कि राज्य खाद्य योजना के अन्तर्गत सम्पूर्ण उत्तराखण्ड राज्य में राशन डिजिटाईजेशन का कार्य युद्ध स्तर पर किया गया जिसके क्रम में अल्मोड़ा में भी राशन कार्डों के डिजिटाईजेशन की कार्रवाही की गयी। उन्होंने बताया कि उक्त क्रम में समयसमय पर समीक्षा के दौरान संज्ञान में आया कि जनपद में आधार कार्य सिडिंग कार्य की प्रगति सन्तोष जनक नहीं है इसके अतिरिक्त राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना के डुप्लीकेट राशन कार्डों को समाप्त करने के सम्बन्ध में कोई सन्तोष जनक प्रगति नहीं हो पायी है। डिजिटाईजेशन कार्य हेतु कम्प्यूटर मंे फीड किये गए कार्डों के सापेक्ष अत्यन्त न्यून कार्डों का ही वेरीफिकेशन हो पाया है। जिलाधिकारी ने बताया कि इस सम्बन्ध में जिला पूर्ति अधिकारी से आख्या उपलब्ध कराने के निर्देश दिये गये थे उनके द्वारा प्रस्तुत आख्या मंे उल्लेख किया गया है कि 54.61 प्रतिशत आधार कार्ड सिडिंग किये गये है इसके अतिरिक्त खाद्य सुरक्षा योजना के डुप्लीकेट राशन कार्डों को समाप्त करने के सम्बन्ध में कोई सन्तोष जनक प्रगति नहीं पायी गई है। उन्होंने बताया कि उक्त से स्पष्ट है कि टी0एन0 उपाध्याय जिला पूर्ति अधिकारी द्वारा राज्य खाद्य योजना के अन्तर्गत राशन कार्डो के डिजिटाईजेशन कार्य जैसे महत्वपूर्ण कार्य में घोर लापरवाही की गई तथा अपने दायित्वों का निर्वहन नही किया गया। इसके अतिरिक्त जनपद के अन्तर्गत व्यवसायी प्रतिष्ठानों द्वारा व्यवसायिक गैंस सिलेंडरों का प्रयोग न कर घरेलु सिलेंडरों के प्रयोग से घरेलु गैंस सिलेंडरों की कमी उत्पन्न होना संज्ञान में आने पर इस कार्यालय द्वारा जिला पूर्ति अधिकारी को निर्देश दिये गये थे कि जिला पूर्ति अधिकारी अल्मोड़ा मोटर मार्गों के किनारों पर चाय विके्रता, जलपान गृह आदि व्यवसायिक प्रतिष्ठानों का स्थलीय निरीक्षण करेंगे। उक्त निर्देशों के उपरान्त भी समयसमय पर विभिन्न माध्यमों से व्यवसायिक प्रतिष्ठानों द्वारा घरेलु गैंस सिलेंडरों के प्रयोग की शिकायतें प्राप्त होती रहती है। उक्त आदेशों के क्रम में जिला पूर्ति अधिकारी द्वारा स्थलीय निरीक्षण कर व्यवसायिक प्रतिष्ठानों में घरेलु गैस सिलेंडरों के प्रयोग की रोकथाम सम्बन्धी कोई भी आख्या आज तक प्रस्तुत नहीं की गई है। जिससे स्पष्ट है कि जिला पूर्ति अधिकारी द्वार उच्चाधिकारियों के आदेशों को कोई महत्व प्रदान न करते हुये अपने दायित्वों का निर्वाहन नहीं किया गया। जिलाधिकारी ने बताया कि उक्त कृत्यों के आलोक में टी0एन0 उपाध्याय जिला पूर्ति अधिकारी की भत्र्सना की जाती है तथा उन्हें विशेष प्रतिकूल प्रविष्टि दी जाती है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY