पतित पावनी माँ गंगा में समुचित सफाई व्यवस्था प्राथिमिकता के आधार पर हो

0
140
Advertisment

पतित पावनी माँ गंगा में समुचित सफाई व्यवस्था प्राथिमिकता के आधार पर हो, कला प्रेमियों को राज्य सरकार संरक्षण देगी। यह बात मा0 मुख्यमंत्री के सलाकार संस्कृति राज्य मंत्री रामकुमार वालिया ने डाम कोठी हरिद्वार में अधिकारियों की बैठक के दौरान कही। उन्होंने गंगा की समुचित सफाई व्यवस्था एवं देखरेख के लिए अधिकारियों को निर्देश जारी किये। उन्होंने कहा कि माँ गंगा में डुबकी लगाने देशविदेश से श्रद्धालू हरिद्वार में आते हैं, गंगा में गंदगी देखकर जहाँ उनकी भावनाओं को ठेस पहुंचती है वहीं राज्य सरकार की बदनामी भी होती है, इसलिए गंगा में गंदगी को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को सफाई व्यवस्था का कार्य प्राथमिकता के आधार पर करने के निर्देश दिए तथा लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों के खिलाफ कठोर कार्यवाही करने की चेतावनी भी दी। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड में पर्यटन एवं संस्कृति विभाग की अहम भूमिका है। देशविदेश से आने वाले पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए संस्कृति विभाग द्वारा अनेक कार्य योजनाएं बनाई जा रही हैं, जिसमें मुख्य रूप से उत्तराखण्ड की वेशभूषा, परम्परागत बोली तथा वाद्य यन्त्रों को संरक्षण एवं सहयोग प्रदान कर उनको बढ़ावा दिया जा रहा है। संस्कृति विभाग द्वारा चलाई जा रही इन जन कल्याणकारी योजनाओं के अंतर्गत मुख्य रूप से कलाकार संस्थाओं को 100 वर्ष पूरे होने पर 1 लाख रूपये तथा 75 वर्ष पूरे होने पर 75 हजार तथा 50 वर्ष पूरे होने पर 50 हजार का विशेष अनुदान दिया जा रहा है। इसके साथ ही अनुसूचित जाति, वन जाति बाहुल्य क्षेत्रों में सांस्कृतिक केन्द्रों का निर्माण कराया जा रहा है। प्रदेश के विभिन्न अंचलों में आयोजित मेलों/उत्सवों मंे सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन कराया जा रहा है। सांस्कृतिक गतिविधियों से जुडी संस्थाओं को अनुदान दिया जा रहा है तथा वृद्ध एवं विपन्न कलाकारों, लेखकों एवं साहित्यकारों को मासिक पेंशन प्रदान की जा रही है। उन्होंने बताया कि संस्कृति विभाग द्वारा सांस्कृतिक एवं ऐतिहासिक वस्तुओं का क्रय एवं संरक्षित स्मारकों व प्राचीन भवनों को संरक्षण भी प्रदान किया जा रहा है। महान विभूतियों एवं शहीदों के स्मारकों का निर्माण एवं मूर्ति स्थापना के कार्य किये जा रहे हैं। सरकार द्वारा धार्मिक यात्राओं के लिए स्थाई निवासियों को आर्थिक सहायता प्रदान की जा रही है। श्री वालिया ने कहा कि सरकार द्वारा लेखकों को पुस्तक प्रकाशन के लिए वित्तीय सहायता भी दी जा रही है। उन्होंने कहा कि सरकार की सभी कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी आम जन तक न पहुंचने के कारण इन योजनाओं का लाभ पूर्णतः आम जन मानस तक नहीं पहुंच पा रहा है। इसके लिए सभी अधिकारी/कर्मचारीयोजनाओं की जानकारी एवं लाभ जनजन तक पहुंचाने में सहयोग करें।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY