हरिद्वार सांसद रमेश पोखरियाल निशंक ने मेला नियंत्रण कक्ष में जिला विकास समन्वय और निगरानी समिति (दिशा) की बैठक ली

0
201

हरिद्वार सांसद रमेश पोखरियाल निशंक ने मेला नियंत्रण कक्ष में जिला विकास समन्वय और निगरानी समिति (दिशा) की बैठक लेते हुए समस्त जनपद स्तरीय अधिकारियों को निर्देश दिये कि कार्य में लापरवाही बरदाश्त नहीं की जाएगी। सरकार द्वारा चलायी जा रही योजनाओं को धरातल पर उतारें। उन्होंने कहा कि इस समिति के गठन का उद्देश्य प्रभावी और समयबद्ध विकास के लिए संसद, राज्य विधान मंडलों और स्थानीय सरकारों (पंचायती राज संस्थाओं/नगर पालिका निकायों) के निर्वाचित प्रतिनिधियों के बीच बेहतर समन्वय सुनिश्चित करने के लिए किया गया है। उन्होंने कहा कि केंद्र, राज्य और स्थानीय सरकारों को सौंपी गई जिम्मेदारियों की संवैधानिक व्यवस्था के तहत विकास समन्वय एवं निगरानी को बढ़ावा देने के लिए ‘‘दिशा’’ एक व्यवस्था है। उन्होंने प्रत्येक योजना के लिए नियुक्त किये गये नोडल अधिकारी से विभागवार योजनाओं की प्रगति की जानकारी लेते हुए अधूरे कार्याें के प्रति नाराजगी प्रकट करते हुए कहा कि प्रत्येक योजना को उसके निर्धारित समय अवधि में पूरा करें, ताकि समय से लोगों को इसका लाभ मिल सके। मनरेगा योजना के संबंध में उन्होंने कहा कि यह एक महत्वपूर्ण योजना है जिसका उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों मंे रोजगार देना है। कार्ययोजना बनाकर कार्य करें। इस संबंध में सीडीओ सोनिका ने कहा कि जनपद में प्रत्येक ग्राम के लिए कार्ययोजना बनायी गयी है। उन्होंने बताया कि विकासखण्ड बहादराबाद के ग्राम पंचायत जमालपुर में बंजर भूमि का उपयोग कर तालाब के रूप में विकसित कर मत्स्य पालन के जरिए रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है। साथ ही जानकारी दी की वित्तीय वर्ष 1516 में कुल 28 तालाब बनाए गये हैं तथा इस वित्तीय वर्ष में कुल 49 तालाबों का लक्ष्य रखा गया है। हरिद्वार सांसद ने कहा कि तालाबों को आर्थिकी से जोड़कर रोजगार पैदा करें, साथ ही तालाबों का सौंदर्यीकरण, तारबाड एवं प्लांटेशन भी किया जाए। तालाबों के अतिक्रमण को किसी भी कीमत पर बरदाश्त नहीं किया जाएगा, अतिक्रमण होने पर संबंधित एसडीएम जिम्मेदार होंगे। डाॅ0 निशंक ने कहा कि महिला गु्रप बनाकर इनको आर्थिक गतिविधियों से जोड़ने पर बल देते हुए कहा कि महिला ग्रुप को अधिक उत्पादकता वाले क्षेत्रों में लगाया जाए। जनपद के दूरस्थ क्षेत्रों में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत कच्चे एवं टूटे मार्गाें का सुदृढ़ीकरण करने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए। प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के नोडल अधिकारी का मुख्यालय देहरादून होने पर नाराजगी व्यक्त की और शासन से माॅग की कि इसका मुख्यालय हरिद्वार जनपद में बनाया जाए। समाज कल्याण अधिकारी को निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि सभी पात्र व्यक्तियों को पंेशन दिया जाना सुनिश्चित करें। उन्होंने अपात्र व्यक्तियों को मिलने वाली पेंशन की जांच कराने के निर्देश दिए तथा शीघ्र ही आॅनलाइन पेंशन व्यवस्था पर बल दिया। हरिद्वार नगर की सफाई व्यवस्था के लिए वालंटियर्स की सहायता लेने का निर्देश दिया। डाॅ0 निशंक ने कहा कि ऐसे वालंटियर्स की सहायता से नगर की सफाई व्यवस्था चुस्तदुरूस्त की जाए। इस अवसर पर अध्यक्ष जिला पंचायत सविता चैधरी, भगवानपुर विधायक ममता राकेश, विधायक हरिद्वार ग्रामीण क्षेत्र स्वामी यतीश्वरानंद, विधायक चन्द्रशेखर, आदेश चैहान, विधायक संजय गुप्ता, पूर्व मंत्री सुरेश राठौर, ओम प्रकाश जमदग्नि, जिलाधिकारी हरबंस सिंह चुघ, एडीएम वित्त अभिषेक त्रिपाठी, सीएमओ बी.एस. जंगपांगी, नगर आयुक्त विप्रा त्रिवेदी सहित जनपद स्तरीय अधिकारीगण उपस्थित थे।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY