बीएचईएल कन्वेंशन हाॅल में महात्मा गाॅधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारन्टी

0
67

बीएचईएल कन्वेंशन हाॅल में महात्मा गाॅधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारन्टी योजना की एक दिवसीय अभिनवीकरण प्रशिक्षण /कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला में जनप्रतिनिधियों को योजना की विस्तार से जानकारी दी गयी। योजना की जानकारी देते हुए जिला विकास अधिकारी एस.एस. शर्मा ने बताया कि मनरेगा दुनिया में गरीबी उन्मूलन का सबसे बड़ा कार्यक्रम है, जिसकी तारीफ यूएनओ द्वारा भी की गयी है। उन्होंने कहा कि किसी भी योजना की सफलता जनसहभागिता पर आधारित होती है। ग्राम पंचायतों की इसमें प्रमुख भूमिका है। उन्हांेने जनप्रतिनिधियों से अगले वित्तीय वर्ष के लिए अभी से कार्ययोजना तैयार करने को कहा। उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि मनरेगा के अंतर्गत गत वित्तीय वर्ष में लगभग 31 करोड़ रूपये खर्च किये गये तथा इस वित्तीय वर्ष में अब तक लगभग 16 करोड़ रूपये खर्च किये जा चुके हैं। जनपद हरिद्वार में 3 हजार व्यक्तिगत शौचालयों का निर्माण कराया गया। उन्होंने कहा कि मनरेगा के तहत परिवार का एक साथ पंजीकरण किया जाता है। मजदूरी का भुगतान लाभार्थी के आधार से लिंक बैंक खाते में किया जाता है। सहायक परियोजना निदेशक मनविन्दर कौर ने जानकारी देते हुए बताया कि मनरेगा के अंतर्गत किये जाने वाले कार्यों को भुवन पोर्टल पर अपलोड किया जाएगा, उन्होंने कहा कि अगस्त 2016 से जियो मनरेगा का प्रारम्भ किया गया है जिसके अंतर्गत भुवन मनरेगा एप्प के द्वारा मनरेगा के अंतर्गत सृजित परिसम्पत्तियों की टैगिंग की जाती है। जियो मनरेगा के तहत जिला स्तर, विकासखण्ड स्तर एवं शासन स्तर पर निरीक्षण किया जा सकता है तथा जियो पोर्टल पर सारे विभागों के कार्यों को देख सकते हैं। भुवन जियो मनरेगा मोबिल एप्प का निर्माण इसरो के सहयोग से किया गया है जिसका उपयोग बेहतर निगरानी के लिए किया जा रहा है। इस अवसर जिला कार्यक्रम अधिकारी मोहित चैधरी, जिला समाज कल्याण अधिकारी दीपराज अग्निहोत्री, विभिन्न ग्राम पंचायत/क्षेत्र पंचायतों के जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY