जिलाधिकारी ने किया चिकित्सालय का निरीक्षण

0
97

चिकित्सालय में सफाई व्यवस्था के साथसाथ आने वाले मरीजों की समस्याओं का विशेष ध्यान रखा जाए इसमें लापरवाही को गम्भीरता से लिया जाएगा यह निर्देश जिलाधिकारी सविन बंसल ने आज जिला चिकित्सालय में औचक निरीक्षण के दौरान दिए। उन्होने इस दौरान चिकित्सालय में विभिन्न वार्डो सहित आकस्मिक विभाग, पैथाॅलाजी लैब, अल्ट्रासाउण्ड लैब, एड्स कन्ट्रोल सेन्टर, औषधी वितरण केन्द्र सहित अन्य स्थानों का निरीक्षण किया। जिलाधिकारी ने प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक को निर्देश दिये कि एक शिकायत रजिस्टर बनाकर उसमें लोगों की शिकायतों को अंकित करेें साथ ही चिकित्सालय प्रबन्धन समिति की बैठक में उक्त पंजिका का अवलोकन कराना भी सुनिश्चित करेगे। निरीक्षण के दौरान उन्होंने कहा कि पंजिका में चिकित्सकों द्वारा जिन रोगियों को हायर सेन्टर के लिये रिफर किया जाता है उसका उल्लेख अवश्य हो साथ ही चिकित्सालय में आने वाले मरीजों के साथ चिकित्सक सहित सभी स्वास्थ्य कर्मी व्यवहार सही रखे ताकि बाहर से आने वाले इन मरीजों का सन्देश ग्रामीण क्षेत्रों में जाय। उन्होंने निरीक्षण के दौरान औषधि भण्डार के प्रभारी को निर्देश दिये कि जो भी औषधि वितरण पंजिका है उसमें चिकित्सालय का नाम अवश्य उल्लेख हो साथ ही जिस व्यक्ति द्वारा दवाई वितरित की जा रही उसके स्पष्ट हस्ताक्षर व मुहर अवश्य हो इसके लिये यदि धनराशि की आवश्यकता पडेगी तो चिकित्सालय प्रबन्धन समिति से इसका प्राविधान किया जायेगा साथ ही उन्होंने स्टाॅक रूम, सब स्टाॅक रूम और मास्टर स्टाॅक रूम की रिर्पोट प्रस्तुत करने को कहा। अन्र्तरोगी विभाग कक्षों के निरीक्षण के दौरान उन्होंने निर्देश दिये कि पुरूष व महिला के लिये अलगअलग वार्ड की व्यवस्था की जाय। महिलाओं के साथ बच्चा वार्ड सम्मिलित किया जा सकता है। उन्होंने प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक को निर्देश दिये कि लैब टैक्नीशयन सहित अन्य जो भी कर्मचारियों की कमी जिला स्तर से की जा सकती है उसका एक प्रस्ताव बनाकर चिकित्सा प्रबन्धन समिति की बैठक में प्रस्तुत करें ताकि उसकी व्यवस्था की जा सके इसके साथ ही जो भी उपकरण क्रय किये जाने है उसका भी प्रस्ताव प्रस्तुत करेंगे। शौचालयों में सफाई व्यवस्था पर उन्होंने नाराजगी व्यक्त की और कहा कि प्रत्येक दिन दो बार अनिवार्य रूप से शौचालयों सहित चिकित्सालय परिसर की सफाई की जाय और मेरे द्वारा इस व्यवस्था का निरीक्षण भी किया जायेगा। उन्होंने प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक को यह भी निर्देश दिये कि चिकित्सालय में यदि गम्भीर रोगी आयें तो वे मानवीय दृष्टिकोण रखकर उनका परीक्षण भी वे करेंगे ताकि मरीजों की शिकायतें दूर हो सके। जिलाधिकारी ने इस अवसर पर चिकित्सालय परिसर में लिफ्ट के सम्बन्ध में की जा रही कार्यवाही की भी जानकारी भी प्राप्त की और कहा कि अक्टूबर के द्वितीय सप्ताह के बाद इस पर युद्ध स्तर पर कार्य होगा। लोक निर्माण विभाग द्वारा जो कार्य कराया जाना था वह पूर्ण हो चुका है अब तकनीकी कार्य किया जाना है। इस दौरान जिलाधिकारी ने प्रत्येक कक्ष में जाकर मरीजों का हालचाल जाना और उनके रोग से सम्बन्धित पत्रावली को भी देखा और उपस्थित चिकित्सक से जानकारी भी प्राप्त की। उनहोंने इस दौरान यह भी निर्देश दिये कि एक्सरे, आल्टासाउण्ड की रिर्पोटें भी यथा समय उपलब्ध कराये जाय।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY