जिलाधिकारी डा0 रंजीत सिन्हा द्वारा आज पिथौरागढ़ नगर हेतु निर्माणाधीन सिवरेज योजना प्रथम चरण के अंतर्गत निर्मित होने वाले सिवरेज ट्रीटमेंट प्लान जो नगर के चन्द्रभागा एवं निराणा दो स्थानों में निर्मित होना है का स्थलीय निरीक्षण किया गया।

0
55
पिथौरागढ़ नगर हेतु निर्माणाधीन सिवरेज योजना प्रथम चरण

जिलाधिकारी डा0 रंजीत सिन्हा द्वारा आज पिथौरागढ़ नगर हेतु निर्माणाधीन सिवरेज योजना प्रथम चरण के अंतर्गत निर्मित होने वाले सिवरेज ट्रीटमेंट प्लान जो नगर के चन्द्रभागा एवं निराणा दो स्थानों में निर्मित होना है का स्थलीय निरीक्षण किया गया :  जिलाधिकारी डा0 रंजीत सिन्हा द्वारा आज पिथौरागढ़ नगर हेतु निर्माणाधीन सिवरेज योजना प्रथम चरण के अंतर्गत निर्मित होने वाले सिवरेज ट्रीटमेंट प्लान जो नगर के चन्द्रभागा एवं निराणा दो स्थानों में निर्मित होना है का स्थलीय निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान उक्त योजनान्तर्गत मार्च 2016 में 45 करोड़, 89 लाख, 46 हजार रूपये की वित्तीय स्वीकृति के पश्चात् भी वर्तमान दर विभाग द्वारा ट्रीटमेंट प्लान का निर्माण कार्य प्रारम्भ न किये जाने पर असंतोष व्यक्त करते हुए पेयजल निगम के अधीक्षण अभियंता को निर्देश दिये कि एक सप्ताह में उक्त कार्य प्रारम्भ कर लिया जाय अन्यथा कि स्थिति में संबंधित के विरू़़़द्व कानूनी कार्यवाही की जायेगी। इस दौरान पेयजल निगम के अधीक्षण अभियंता एल0एम0 कर्नाटक ने जिलाधिकारी को अवगत कराया की उक्त योजना का प्रथम फेज का आगणन वर्ष 200304 में रूपया 2823.30 लाख स्वीकृत हुआ था पुनः वर्ष 200607 में संसोधित आंगणन डीआई पाईप बदले जाने के कारण 3690.13 लाख स्वीकृत हुआ पिथौरागढ़ सिवरेज योजना प्रथम फेज में कुल 57.37 किमी0 सिवर पाईप लाईन बिछाने एवं 5 एमएलडी व 4.25 एमएलडी का कुल 02 सिवरेज ट्रीटमेंट प्लान का निर्माण किया जाना है उक्त योजना के अंतर्गत शासन द्वारा विभिन्न वर्षों में वर्तमान तक कुल 4140.21 लाख रूपये अवमुक्त किये गये जिसके सापेक्ष पिथौरागढ़ पेयजल निगम शाखा को 2092 लाख रूपये प्राप्त हुए जिसमें से माह सितम्बर 2016 तक कुल 2017.82 लाख की धनराशि व्यय कर ली गयी है जिसमें से वर्तमान तक 23 किलोमीटर सिवर लाईन का निर्माण कर दिया लिया गया है। एस0ई0 पेयजल निगम ने यह भी अवगत कराया कि उक्त येाजना के अंतर्गत शासन द्वारा 31 मार्च, 2016 को 4589.46 लाख की वित्तीय स्वीकृति प्रदान की गयी है। जिलाधिकारी द्वारा इसके अतिरिक्त नगर में पूर्व में नगर के कुमौड़ एवं टकाना में निर्मित सिवरेज टैंक का भी स्थलीय निरीक्षण किया गया दोनों स्थलों में टैंक से खुले में बहते हुए सिवर पर नाराजगी व्यक्त करते हुए जिलाधिकारी ने जल संस्थान के अधिकारियों को एक सप्ताह के भीतर इसकी मरम्मत किये जाने के निर्देश देते हुए कहा कि नगर में किसी भी नाले में खुले में सिवर न बहे इस हेतु विभागीय स्तर पर कार्यवाही की जाय। उन्होंने कहा कि खुले में बहते हुए सिवर के कारण विभिन्न रोगों के फैलने की प्रबल संभावना है इस हेतु विभाग गंभीरतापूर्वक प्राथमिकता के साथ इस कार्य को पूर्ण करें साथ ही उन्होंने टकाना स्थित सैफटिंक टैंक के निकटस्थ अवैध रूप से किये गये अतिक्रमण को भी त्वरित हटाये जाने के निर्देश उपजिलाधिकारी पिथौरागढ़ को दिये। भ्रमण के दौरान मुख्य विकास अधिकारी आशीष चैहान, अधीक्षण अभियंता जल संस्थान ए0एस0अन्सारी, अधीक्षण अभियंता जल निगम एल0एम0 कर्नाटक, अधीशासी अभियंता जल संस्थान आर0के0वर्मा समेत अन्य विभागीय अधिकारी आदि उपस्थित थे।

 पिथौरागढ़ नगर हेतु निर्माणाधीन सिवरेज योजना प्रथम चरण
पिथौरागढ़ नगर हेतु निर्माणाधीन सिवरेज योजना प्रथम चरण

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY